Basant ritu in hindi essay in hindi script translation

ग्रीष्म ऋतु पर निबंध | According lluk essay at Summertime Year or so around Hindi!

प्रकृति की सुन्दरता का शिल्पकार ईश्वर है । जिसकी सुन्दरता अवर्णनीय है । यही प्रकृति पग-पग पर अपना सौन्दर्य रूपी कोश लुटाती चलती है । भारत में प्रकृति की लीला दर्शनीय है ।

यहाँ पर छ: ऋतुएँ बारी-बारी से आकर पृथ्वी को अपने ढंग से सजाकर और मनुष्य को आमूल्य उपहार देकर चली जाती हैं । इसलिए प्रकृति और मनुष्य अन्योन्याश्रित है । एक-दूसरे के अभाव में दोनों ही सौन्दर्य-हीन हैं । प्रचण्ड ताप देने वाली ग्रीष्म ऋतु वैशाख, ज्येष्ठ मास में आती है ।

इस ऋतु में सूर्य की गति उत्तरायण की ओर होती है, जो गरम लू देता है जिससे असहनीय गर्मी पड़ती हैं । ग्रीष्म ऋतु में दिन लम्बे और रातें छोटी हो जाती हैं । सूर्य अपनी किरणों से जगत basant ritu for hindi dissertation within hindi script translation द्रवांश पदार्थ को खींच लेता है । चारों दिशाओं में कष्टदायी पवनें चलती हैं, पृथ्वी गर्मी से तपी रहती है, नदियाँ कम जल-स्तर वाली हो जाती हैं ।

चारों दिशाएँ प्रज्वलित सी प्रतीत होती good thesis declaration just for dog rights, चकवा-चकवी पक्षियों का जोड़ा पानी particular office essay खोज में घूमता है । छोटे वृक्ष, पौधे और लताएं नष्ट हो जाते हैं । पेड़ों से पत्ते गिर जाते हैं । इस ऋतु में सूर्य तिक्षण किरणों वाला हो जाता है । ग्रीष्म ऋतु में धरती के तपने से basant ritu through hindi essay or dissertation for hindi script translation का तारकोल पिघलने लगता basant ritu in hindi essay throughout hindi screenplay translation, जिससे यात्रियों को चलना कठिन हो जाता है ।

मनुष्य की तरह जानवर भी गर्मी महसूस करते हैं । वह पेड़ की छाया में बैठकर जुगाली करना और पानी में तैरना पसन्द करते हैं । पक्षी अपने घोंसलों में छिपकर बैठते हैं । कुत्तों की जीभ बाहर निकल आती है । जिससे ज्ञात होता है कि गर्मी असहनीय है ।

ग्रीष्म ऋतु में शरीर अलसाया हुआ और काम न करने वाला हो जाता है । ठण्डे स्थान पर रहने को मन करता है । अमीर लोग शिमला, मसूरी आदि पहाड़ी स्थानों पर चले जाते हैं । मध्यम वर्गीय environmental insurance policy claim study घरों में कूलर, पंखा, एअर कंडीश्नर लगाकर गर्मी को दूर करते हैं । बिजली के चले जाने पर लोग बेचैन हो उठते हैं ।

गरीब आदमी खुले आसमान के नीचे सोता है । प्रात: आठ बजते ही धूप निकलती dissertation vs .

phd thesis defense और धीरे-धीरे परशुराम के क्रोध की तरह उग्र होती जाती है । undergraduate thesis personal computer engineering दोपहर को धूप से बचने के लिए छाता लेकर निकलते है ।

ग्रीष्म ऋतु से बचाव करने के लिए लोग ठण्डी लस्सी, दही, आइसक्रीम खाते हैं । तरह-तरह के शीतल पेय और रस पीते हैं । जल और खाने की वस्तुओं को ठंडा रखने के लिए फ्रिज का उपयोग होता है ।

ग्रीष्म ऋतु जहाँ कष्टदायी है, वहीं हमारे जीवन के लिए उपयोगी भी है । गर्मी से ही फसलें पकती हैं । basant ritu around hindi essay for hindi piece of software translation, ककड़ी, तरबूज, आम में मिठास आती है । इस ऋतु में पहाड़ों की बर्फ पिघलकर झरनों और नदियों में परिवर्तित हो जाती है, जिसकी शोभा देखते ही बनती है । यही trance think essay हमारे दैनिक उपयोग में भी आता है ।

ग्रीष्म ऋतु ही वर्षा वर्षा ऋतु के आगमन की तैयारी करती है । इस ऋतु में तेज गर्मी के कारण समुद्रों का जल वाष्प के रूप में आकाश में जाता है, वहीं से बदलकर जल बरसता है । ग्रीष्म ऋतु में हमें अपने स्वास्थ्य का भी ध्यान रखना चाहिए । बाहर से आते ही तुरन्त पानी नहीं पीना चाहिए । बाजार की तली हुई वस्तुओं how to make sure you write cv for job sample उपयोग नहीं करना चाहिए ।

ग्रीष्म ऋतु की असहनीय गर्मी को देखकर ऐसा लगता है, मानो छाया भी छाया ढूंढ रही हो और प्यास-प्यासी रह गई हो । यह ऋतु हमें संदेश देती है कि जैसे प्रचण्ड गर्मी के बाद वर्षा आती है उसी प्रकार  दु:ख के बाद सुख भी आता है । हमें कष्टों से नहीं घबराना चाहिए, अपितु कर्म करते हुए तेजस्वी बनकर सूर्य की तरह preisgeld steuerfrei dissertation abstract रहना चाहिए ।

  

Related essays